support@dalhangyanmanch.res.in

भूमि का चयन 

अरहर की खेती के लिए अच्छे जल निकास वाली उच्च उर्वरायुक्त दोमट व बलुई दोमट भूमि उपयुक्त होती है। खेत में पानी का ठहराव फसल को हानि पहुँचाता हैं। इसकी खेती हर प्रकार की मृदा में की जा सकती है। लवणीय तथा क्षारीय भूमि में इसकी खेती करना सम्भव नहीं है।

 

भूमि की तैयारी

खेत की पहली जुताई मिट्टी पलटने वाले हल से करने के बाद 2- 3 जुताइयाँ देशी हल या कल्टीवेटर से करके पाटा लगाना चाहिये।