support@dalhangyanmanch.res.in

बुवाई की विधि
बीज की बुवाई कूँड़ों में या सीड ड्रिल से पंक्तियों में की जानी चाहिए तथा बीजों को 4 -5 से.मी. गहराई में बोना चाहिए। पंक्तियों के बीच की दूरी 30 से.मी. तथा पौधों के बीच की दूरी 8-10 से.मी. उपयुक्त होती है। 
 

बुवाई का समय 

समय पर बुवाई वांछित पैदावार के साथ-साथ रोग और कीटों की संभावना को भी कम करता है। उत्तर भारत में खरीफ ऋतु में उर्द की बुवाई का उपयुक्त समय जुलाई कर प्रथम सप्ताह है। वर्षा न होने या देर से आने पर जुलाई के अन्त तक बुवाई की जा सकती है किन्तु इसके बाद बुवाई से उर्द की फसल का उत्पादन कम होता ह। दक्षिण भारत में खरीफ में 15 से 30 जून तक तथा वसंत में मार्च का प्रथम पखवाडा बुवाई के लिए उपयुक्त होता है। धान के परती क्षेत्रों में रबी उर्द की बुवाई  दिसम्बर - जनवारी में की जा सकती है।